Featured Speaker Diabetic Retinopathy Now

Dr. Amit Gupta

MD, FACS Ophthalmologist

डॉ. अमित गुप्ता, एमडी, एफएसीएस, नेत्र विशेषज्ञ, डायबिटिक रेटिनोपैथी के इलाज और नियमित रूप से आँखों की जांच कराने का महत्व के बारे में बताते हुए।

Dr. Amit Gupta, MD, FACS, Ophthalmologist, talks about what patients can expect when coming in to get laser eye treatment for diabetic retinopathy.

BIO: 

Dr. Gupta is board certified in ophthalmology and fellowship trained in vitreo-retinal surgery. After almost 30 years in the United States he is returning to his home in Toronto to be closer to his Family. He completed medical school from Hahnemann University School of Medicine (now part of Drexel University) with many awards. His ophthalmology residency was from The Eye and Ear Institute at University of Pittsburg. A surgical retina fellowship was completed from Crozer-Chester Hospital in Philadelphia. During his fellowship Dr. Gupta helped developed the MAVE—a Multi-Axis Vision Evaluator.

Dr. Gupta had a private practice in the Poconos, in eastern ennsylvanian and was chairman of the Dept. of Ophthalmology at the Pocono Health System and the Eye-Trauma surgeon for St. Luke’s Hospital in Bethlehem. Dr. Gupta was a Principal Investigator in human trials for Lucentis and its use in Wet Macular Degeneration. Prior to starting his career in medicine, Dr. Gupta worked in the Silicone Valley as a computer engineer. He holds a degree in computer engineering from McMaster University and patents in both engineering and medicine. Now Health

Ophthalmologist

डायबिटीज की वजह से आँखों में जो असर होता है उसकी वजह से रौशनी कट सकती है। इसका ट्रीटमेंट जो है वो दवाएं ले सकते हैं एक तो है इंजेक्शन आँखों में लगाया जा सकता है जिसकी वजह से पूरा सूजन जो है पर्दे में जो खून आ रहा है आँखों में सब रुक सकता है। इसको बारबार करना पड़ता है हर महीने शुरू में और फिर धीरे-धीरे कम लेकिन जब तक आपको डायबिटीज है तब तक ट्रीटमेंट की ज़रूरत रहेगी।

दूसरा है, लेज़र करा जा सकता है इसके लिए, लेज़र के साथ जो है आपका चारों ओर अंदर पर्दे में लेज़र करी जाती है जिससे खून रुक जाए वहाँ पे। और तीसरा अगर बहुत जबरदस्त आपका डैमेज है आँखों के अंदर अगर जो पर्दे में ऐसा डर है कि पर्दा खींच के फट जाएगा या उखड़ जाएगा तो ज़रूरी है सर्जरी करवाना। लेकिन वो सर्जरी बहुत मुश्किल है और उसमें बहुत कठिन है तो इसलिए उसको अच्छा ये है कि उससे पहले आप अपना ध्यान दें अपने शुगर को कंट्रोल करें और आपकी आँखों में इंजेक्शन लगेगा या लेज़र होगी ये सब आप करवाएं जैसी ज़रूरत हो।

अगर आपको डायबिटीज है तो आपको कम से कम हर साल अपना आई डॉक्टर के पास जा के एग्ज़मिनेशन कराना ज़रूरी है क्योंकि हालांकि आपको सही दिखाई दे रहा है हो सकता है आँखों के अंदर खून है, पर्दे में सूजन है जिसकी वजह से आपकी बाद में रौशनी कटेगी लेकिन इस समय सब कुछ सही है।

इसलिए हर साल कम से कम और अगर आपको डैमेज मालूम है तो और भी ज़्यादा हर 3 महीने 6 महीने में एग्ज़मिनेशन करवाना ज़रूरी है।

इसके बारे में अगर आप और जानना चाहते हैं तो अपने आई डॉक्टर से बात करिए।

Presenter: Dr. Amit Gupta, Ophthalmologist, Scarborough, ON

Local Practitioners: Ophthalmologist

DIABETIC RETINOPATHY

DIABETIC RETINOPATHY